Worth it?

एक तिराहे पर दो सेकंड रुकना हुआ, आधी नींद में था। आँख की एक झपक के बीच ही कई छोटे दृश्य दिखे। पहले में एक आदमी अपनी पत्नी को साइकिल की पीछे वाली सीट पर बैठा कर काम पर जा रहा था, दोनो शायद एक ही जगह काम करते होंगे। पत्नी अपनी दोनो टांगो को […]

Rate this:

घर आ गया

सोचा नहीं था, इस भाषा में दोबारा उतर पाऊँगा। मगर, अगर सोचा गया ही होने लगे तो ना रंज रहेगा, ना रस। रंज का वियोग सहनीय है, रस का नही। बहरहाल, पता नहीं कहाँ जा रहा हूँ, बिना सोचे समझे एक रास्ते पर पैर रख दिए हैं, चल भी पड़ा हूँ। साफ़ कुछ दिखाई नहीं […]

Rate this: