Worth it?

एक तिराहे पर दो सेकंड रुकना हुआ, आधी नींद में था। आँख की एक झपक के बीच ही कई छोटे दृश्य दिखे।

पहले में एक आदमी अपनी पत्नी को साइकिल की पीछे वाली सीट पर बैठा कर काम पर जा रहा था, दोनो शायद एक ही जगह काम करते होंगे। पत्नी अपनी दोनो टांगो को एक तरफ किये बैठी थी, टांगें ज़मीन को लगभग छूते हुए, सीट को दोनो हाथो से पकडे हुए। काफी धूप थी। तिराहे पर शायद पत्नी के पाँव से चप्पल निकल गयी, उसने पति को बोला होगा तो पति ने साइकिल रोक दी। जहाँ से मुझे दिखा, पति मुस्कुरा रहा था। मैं होता तो शायद मुझे गुस्सा आ जाता।

दूसरे में एक बाइक और एक साइकिल आपस में भिड़ गये, साइकिल वाला बाल बाल बचा, बुरी तरह चोट लगने से। बहरहाल, बच गया।

तीसरे में एक और औरत औटो की पीछे वाली सीट में बैठी हुई थी (“में” इसलिए कहा क्योंकि वो सीट ऐसी ही होती है जिस ‘पर’ बैठा नहीं जाता, जिस ‘में’ बैठा जाता है)। काम पर जा रही होगी, बिन फ़िक्र किये कि चेहरा tan होगा या कमर।

चौथी तरफ मैं था, औटो में अधसोया बैठा हुआ, सोचते हुए, जो कितने दिनो से सोच रहा हूँ। सोचता ही जा रहा हूँ। यही कि is it worth it?

Advertisements

What do you think?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s